एसएमस का पूरा नाम शॉर्ट मैसेजिंग सर्विस था भले ही आज के समय में एसएमस एक सिंपल वर्ड हो लेकिन 25 साल पहले ये एक खास फीचर था क्योंकि एमएमस को दुनिया में आये हुए पूरे 25 साल हो चुके है आपको बता दे की आज के दिन ही पहला एसएमस टेक्स्ट भेजा गया था

1992 में वोडाफोन के सॉ्टवेयर इंजीनियर Neil Papworth ने अपनी कंपनी के डायरेक्‍टर Richard Jarvis को 3 दिसंबर के दिन ‘Merry Christmas’ एसएमएस लिखकर भेजा था।

व्हाट्सएप और ट्विटर ने एसएमस की लोकप्रियता जरूर कम कर दी लेकिन आज भी इसकी एक अलग पहचान हैं फिर वो चाहे ओटीपी हो या कन्फॉर्मेंशन मैसेज हो जैसे-जैसे समय बदलता गया टेलिकॉम कंपनियों ने इसमें इमोजी भी जोड़ दिए जो एसएमएस के साथ भेजे जा सकते थे, इमोजी जोड़े जाने के बाद एसएमएस को काफी पॉपुलेरिटी मिली।

थोड़ा समय और बदला और अब हम SMS में संक्षिप्त रूप यानी acronym का प्रयोग करने लगे हैं नहीं समझे अरे LOL , TTYL , ASAP शार्टकट शब्‍द तो आपने भी भेजे होंगे, खासकर शब्‍दों की लिमिट की वजह से ये शब्‍द काफी पॉपुलर हुए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here