भारत में सऊदी अरब की सोशल नेटवर्क एप सरहाह पर जल्द ही प्रतिबंध लग सकता है। दिल्ली उच्च न्यायालय ने केंद्र सरकार को ऐसे एप बैन लगाने पर विचार करने के लिए कहा है। इसके पीछे की वजह इस एप द्वारा यूजर्स को बेवजह अपमानजनक और अभद्र भाषा में मैसेज भेजने की प्रक्रिया को बताया है।

कोर्ट ने सऊदी अरब की सोशल नेटवर्क एप सरहाह पर बैन लगाने के लिए आई एक याचिका पर सुनवाई करते हुए आदेश जारी किया है। इस आदेश में कहा गया है कि साराह एप पर यूजर्स अपनी पहचान का खुलासा किए बिना अपमानजनक संदेश भेज सकते हैं। इस पर कोर्ट ने कहा है कि यदि कोई कार्रवाई की जा रही है, तो उसें जल्द करना चाहिए और सरकार द्वारा जारी किए गए आदेश पर 1 महीने के अंदर कार्रवाई की जानी चाहिए।

जासूसी कर रहे 42 एप को किया बैन

चीन ने भारत से डोकलाम विवाद में मुंह की खाने के बाद अब साइबर वॉर छेड़ रखा है। चीन अब इंडियन आर्मी के खुफिया राज जानने के लिए कई तरह के स्मार्टफोन्स और एप्स की मदद ले रहा है। इसके चलते रक्षा मंत्रालय ने भी सभी फील्ड कमांडरों, सैन्य अधिकारियों व जवानों को अपने स्मार्टफोन्स से लगभग 42 एप्स को तुरंत रिमूव करने के निर्देश दिए हैं।

ये एप चुरा रहे मोबाइल , स्मार्टफोन , टैबलेट डेटा 

रिपोर्ट के मुताबिक ब्यूटीप्लस , न्यूजडॉग , वाईवा वीडियो , पैरेलल स्पेस, एपीयूएस ब्राऊजर , प्रफेक्ट कार्प , वायरस क्लीनर-हाय सिक्योरिटी लैप , सीएम ब्राऊजर , डीयू रिकॉर्डर , वॉल्ट हाईड-एनक्यू मोबाईल सिक्योरिटी, यूकैम मेकअप , कैच क्लीनर डीयू एप्स स्टोर , डीयू बैटरी सेवर , डीयू क्लीनर , डीयू प्राईवेसी , डीयू ब्राऊजर , बेडू ट्रांसलेट , बेडू मैप , वंडर कैमरा , क्यूक्यू इंटरनेशनल , क्यूक्यू म्यूजिक , क्यूक्यू मेल , क्यूक्यू प्लेयर , क्यूक्यू न्यूजफीड, डब्लयूईसवाईएनसी , क्यूक्यू सिक्योरिटी सेंटर , सेल्फी सिटी , मेल मास्टर और उला लांचर ऐसे एप्स हैं जो सेनिकों और आम यूजर्स की पर्सनल डिटेल चुरा रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here