भारत सरकार ने बीते साल भारतीय मुद्रा के रंग और डिजाइन में बदलाव कर नए नोट जारी किए थे। नए नोट जारी करने के बाद बड़ी संख्या में नकली नोट के मामले सामने आए। कई लोगों ने अनजाने में नकली नोटों को ले लिया, क्योंकि उन्हें ठीक तरीके से असली और नकली नोट की पहचान ही नहीं थी।

अगर आप भी असली और नकली नोट के बीच कंफ्यूज हो जाते हैं और नोटों की पहचान करना मुश्किल लगता है, तो अब एक ऐप आपकी इस काम में मदद कर सकता है। ‘चेकफेक’ ऐप नोटों की नकली नोटों की पहचान करने वाला एक ऐप है।

फेकचेक ऐप को चेकफेक ब्रैंड प्रोटेक्शन सिस्टम प्राइवेट लिमिटेड ने बनाया है। चेकफेक कंपनी के निदेशक और सहसंस्थापक तन्मय जायसवाल ने ऐप के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि इस ऐप के जरिए न सिर्फ भारतीय करंसी बल्कि पूरी दुनिया में किसी भी देश की करेंसी की जांच की जा सकती है। इस ऐप की मदद से ऐप के डिजाइन से लेकर कलर और टेक्स्चर के बारे में भी पता लगाया जा सकता है।

चेकफेक नोट की जांच इतनी बारीकी से करता है कि कितनी भी सफाई के साथ बनाया गया जाली नोट पहचाना जा सकता है। कंपनी ने चेकफेक ऐप को फेक करेंसी की पहचान करने वाला सिंगल पॉइंट डेस्टिनेशन बताया है। ये एक फ्री एंड्रॉइड ऐप है जिसे आप अपने मोबाइल में डाउनलोड कर कभी भी फेक नोट की जांच होने पर उसे जांच सकते हैं।

इस ऐप को गूगल प्लेस्टोर पर 4 स्टार रेटिंग मिली है। ज्यादा जानकारी के लिए आप इस ऐप की वेबसाइट www.chkfake.com पर भी विजिट कर सकते हैं। बता दें कि इस ऐप के जरिए न सिर्फ भारतीय फेक करेंसी बल्कि ब्रिटिश पाउंड और यूएस के डॉलर के अलावा यूरोप की करंसी यूरो , जापानी येन , चीन के युआन और सिंगापुर डॉलर के बारे में पता लगा सकते हैं।

नकली नोटों को इस्तेमाल कर कई लोगों के साथ धोखाधड़ी कर दी जाती है। कई बार तो लोगों को उनके साथ हुई धोखाधड़ी के बारे में बहुत देर से पता चलता है। लेकिन अब आप चेकफेक ऐप की मदद से मिनटों में नकली और असली नोट में पहचान कर पाएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here