ब्लू व्हेल गेम इस समय चारो तरफ बहुत चर्चे में है जैसा की सबको पता है की ब्लू व्हेल गेम कोई मामूली गेम नहीं बल्कि एक किलर गेम है एक मौत का कुआँ है जहा पर लगातार बच्चे फस कर इसकी कीमत अपनी जान देकर चुका रहे है भारत में अब तक इस गेम से 10 बच्चो की जान जा चुकी है

कुछ दिनों पहले ही एक मामला सामने आया जिसमे लखनऊ में 8वी क्लास में पढ़ने वाले बच्चे ने अपनी जान दे दी है बताया जा रहा है 8वी क्लास में पढ़ने वाला बच्चा आदित्य कुछ दिनों से ब्लू व्हेल गेम खेल रहा था हालांकि इस मामले में पुलिस ने अभी कुछ कहा नहीं है

ब्लू व्हेल गेम है क्या ?

क्यों है खतरनाक

जिन लोगो को इस गेम की जानकारी नहीं है उन्हें बता दे की इन दिनों इंटरनेट पर ब्लू व्हेल गेम चल रहा है इस गेम के लिए आपको कोई एप की जरुरत नहीं है केवल एक लिंक है जिस पर आप क्लिक करते ही गेम आपके मोबाइल में कंप्यूटर में डाउनलोड हो जायेगा यह गेम इसलिए खतरनाक है क्यूंकि इसमें दिए जाने वाले टास्क जानलेवा होते है इस गेम की शुरुवात 2013 में हुई थी और अब तक यह पूरी दुनिया में फ़ैल चुका है

ब्लू व्हेल गेम क्यों है खतरनाक 

इस गेम से बाहर आया यूपी का शुभम

ब्लू व्हेल गेम में करीब 50 टास्क दिए हुए है इस गेम में यूज़र्स को सभी टास्क पूरा करने को कहता है जिसमे हाथ में ब्लेड से व्हेल बनाने को कहा जाता है आधी रात को भूत वाली मूवी देखने को कहा जाता है किसी को मारने के लिए कहा जाता है यह सब हैरान और परेशांन करने वाले टास्क है जो यूज़र को फोर्स करके करवाय जाते है

बच्चे हो रहे है शिकार 

क्यों हो रहे हैं बच्चे इसका शिकार

यह कातिल गेम रूस के एक व्यक्ति ने बनाया है जो की अब जेल में है यह ब्लू व्हेल गेम इंसान के दिमाग से खेल जाता है उन्हें परेशांन और धमकियाँ देकर उनसे टास्क पुरा कराया जाता है अगर यूज़र्स कोई भी टास्क पूरा नहीं करता है उसे धमकियाँ मिलने लगती है परिवार को मारने की धमकियाँ से डरकर बच्चे ये खतरनाक गेम खेलने लगते है

ब्लू व्हेल गेम से बाहर आया उत्तर प्रदेश का शुभम 

उत्तर प्रदेश बरेली का एक छात्र शुभम जो 17 साल का है यह ब्लू व्हेल गेम खेल चुका है और अभी भी सही सलामत है शुबह ने यह खतरनाक गेम खेला और जब उसे खतरनाक टास्क मिलने लगे तो उसने टास्क पुरा करने से मना कर दिया शुभम को उसके बाद धमकियाँ मिलने लगी की उसके परिवार खत्म कर दिया जायेगा उनकी लोकेशन ट्रैक कर ली गयी है धमकियों से भरे मैसेज उसे हर समय मिलते थे लेकिन शुभम इस बात से डरा नहीं और उसने अपना मोबाइल को रिसेट कर दिया जिससे मैसेज आना बंद हो गया

शुभम ने बताया की इस गेम टास्क को पुरा करने के लिए यूज़र को उकसाया जाता है यूज़र से कहा जाता है की तम यह टास्क कर सकते है और इसके साथ ही घर वालो के खिलाफ भड़काया भी जाता है

सबसे अहम सवाल इस गेम से कैसे बचे ? 

अब सवाल आता है कि इससे बचा कैसे जाए!

इस सवाल का सीधा सा जवाब है इन फालतू की चीज़ो पर ध्यान ना दे इसके आलावा कोशिश करे की अपने बच्चो को फोन ना दे अपने बच्चे के ऊपर ध्यान रखे की बच्चा फोन में या कंप्यूटर में क्या रहा है बच्चो से बात करे और उन्हें विश्वास दिलाये की हमारे होते हुए उन्हें कोई नुकसान नहीं पंहुचा सकता है अपने बच्चो से खुल कर बात करे उनके साथ समय बिताये

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here