हम लोग इंटरनेट यूज़ करते है और हम रोजाना कोई न कोई सॉफ्टवेयर डाउनलोड करते है और किसी किसी सॉफ्टवेयर या एप्लीकेशन के आगे बीटा लिखा रहता है तो आईये जानते है बीटा वर्जन होता क्या है

असल में किसी सॉफ्टवेयर को बनाते समय डेवलेपर को काफी सारे काम को ध्यान में रखना पड़ता है उसे चलने में कोई दिक्कत न आये जिस काम के लिए उसे  बनाया गया है वो काम अच्छे से हो हर यूज़र्स को चलाने में आसान होना चाहिए उसे बनाने का सही उद्देश्य सार्थक होगा लेकिन भी फिर भी बहुत कुछ चीज़े ऐसी होती है जो छूट जाती है जिसे अगले वर्जन में उपभोक्ताओं की टिप्पणियाँ और उनके फीडबैक समय समय पर लेके कमी दूर की जाती है

इसलिए डेवलपरमेन्ट सॉफ्वेयर को बीटा वर्जन में यूज़ करता है  ताकि उस सॉफ्टवयेर जो चीज़े छूट गयी है उसे दूसरे सॉफ्टवयेर के वर्जन में डाल सके हम कह सकते है बीटा वर्जन किसी सॉफ्टवेयर निर्माण की वह स्थिति है जब वह अपने अधिकतर विशेषताओं के साथ लोगों के उपयोग के लिए उपलब्ध है लेकिन यह उसका अंतिम रूप नहीं है

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here